Astrologer at kota, Jyotish at kota , Top Astrologer, Top Astrologer of kota
Astrologer at kota, Jyotish at kota , Top Astrologer, Top Astrologer of kota
Astrologer at kota, Jyotish at kota , Top Astrologer, Top Astrologer of kota
About
AdityaAstro

प्रश्न कुंडली

प्रश्न कुंडली या हॉररी ज्योतिष प्रणाली वैदिक ज्योतिष की एक अनूठी प्रणाली है जो कि व्यक्ति के प्रश्नों के उत्तर पाने के लिए कुंडली (प्रश्न कुंडली) का विश्लेषण करती है। इस प्रणाली के अंतर्गत प्रश्न और प्रश्नों का उपयोग करते हुए पूछे गए प्रश्नों के लिए कुंडली की रचना की जाती है। फिर इसकी सकारात्मक और नकारात्मक संयोजनों के लिए जांच की जाती है कि क्या व्यक्ति को उपयुक्त परिणाम मिलेंगे। जिन लोगों ने प्रश्न कुंडली का सहयोग लिया है, वे कहते हैं कि यह उन्हें सही परिणाम देती है। प्रश्न कुंडली का उपयोग तब भी किया जाता है जब व्यक्ति की जन्म तिथि ज्ञात नहीं होती है। व्यक्ति अभी की ( वर्तमान समय की ) प्रश्न कुंडली बनाकर महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर सकता है। प्राचीन ज्योतिष आचार्यो ने प्रश्न शास्त्र को फलादेश के सभी मापदंडो से सटीक माना है। पंडित रवींद्र ओझा जी भारत के प्रसिद्ध प्रश्न कुंडली विशेषज्ञ हैं जो आपके जीवन के उतार-चढाव में आपके जीवन को आसान और सरल बनाने में पूर्ण सहयोग करेंगे ।

ServicesView All>>
Avatar

Book A Pandit with samagri                                       

Avatar

Janampatri                                           

Avatar

Naamkaran                                        

Avatar

Career and Wealth                         

Avatar

Pujas for Wealth and Prosperity

Avatar

Pujas to Overcome Troubles

Avatar

Grah Shanti Puja                         

Avatar

Pujas for Early Marriage                         

Food Donation
kanya bhoj
     
     
Donate
old people
     
     
Donate
orphanage
     
     
Donate
poor people
     
     
Donate

     

हिंदू धर्म में, अन्नदान या भोजन दान करना, अर्थात् गरीबों को खिलाना एक बहुत ही शुभ क्रिया माना जाता है जो मोक्ष को प्राप्त करने और पून्य की कमाई करता है, अर्थात वरदान। यह पुराणों में कहा जाता है कि अन्नपुर्ना देवी, अर्थात भोजन की देवी, माँ पार्वती ने एक बार भगवान शिव के साथ तर्क दिया कि खाना ही होना चाहिए और नाकि मोह माया। जन्म, मृत्यु और पुनर्जन्म जैसे मौसम विकसित होने के लिए जीवन को विकसित करने के लिए भोजन या अन्न आवश्यक है। सबसे महत्त्वपूर्ण बात यह है कि, माँ पार्वती का अवतार, माँ अन्नपूर्णा शक्ति का स्वर है और भगवान शिव अपनी शक्ति के साथ अधूरे हैं। इसलिए, शिव खुद सहमत थे कि भोजन एक भ्रम नहीं है क्योंकि यह शरीर, मन और आत्मा को पोषण करता है। और इस परंपरा को ध्यान में रखते हुए, गरीबों और जरूरतमंदों को भोजन या भोजन देने के लिए हिंदू धर्म में अत्यधिक शुभ कार्य माना जाता है। भोजन दान या दान करना हमारे सब को साथ लेके चलने की मानवीय प्रवति को दर्शाता हे , चाहे मनुष्य हो या पशु सब का भोजन पर अधिकार हे , प्रकति को चलने के लिए जीव मात्र का चलना आवश्यक हे , इस हवन रूपी संसार मे अगर हम भोजन रूपी आहुति दान दे सके तो ये हमारा प्रकति माँ को धन्यवाद करने का एक साधन मात्र होगा !!

Astro ShopView All>>
Avatar

Gems

Avatar

Semi precious

Avatar

Rudraksh

Avatar

Yantras

Let Us call you NOW